JPG क्या है? || Joint Photographic Experts Group

JPG (जेपीजी) एक प्रमुख चित्र संग्रहण प्रारूप है जो बहुतायत मीडिया और इंटरनेट पर प्रयुक्त होता है। इसका पूरा नाम “जेपेग फोटोग्राफिक इमेज” है। यह एक कॉम्प्रेस्ड फोटोग्राफिक फाइल फॉर्मेट है, जो छवियों को न्यूनतम डेटा लॉस के साथ संचित करता है।

Table of Contents

JPG फाइलें छवियों को कम स्टोरेज स्पेस और तेजी से डाउनलोड करने की सुविधा प्रदान करती हैं। यह अन्य चित्र संग्रहण प्रारूपों से अधिक प्रसारित है और विभिन्न संबंधित सॉफ्टवेयरों द्वारा समर्थित होता है।

जेपीजी फाइलें बिना कोई डेटा लॉस करते हुए छवियों को कंप्रेस करती हैं, जिससे उनका आकार कम होता है, लेकिन उनकी गुणवत्ता को कमी नहीं होती। इसलिए, जेपेग फाइलें वेब पेजों पर तेजी से लोड होती हैं और नेटवर्क ट्रैफिक को भी कम करती हैं।

सार्वजनिक और निजी उपयोगकर्ताओं दोनों के लिए जेपीजी फाइलें अत्यधिक उपयोगी हैं, क्योंकि ये फाइलें छवियों को छोटे आकार में बदलते हुए उत्कृष्ट गुणवत्ता में प्रदर्शित करती हैं।

JPG किस तकनीक का प्रयोग करके तैयार किया जाता है?

JPG (Joint Photographic Experts Group) नामक फाइल प्रारूप एक ऐसी तकनीक का प्रयोग करके तैयार किया जाता है जिसमें छवियों को संग्रहित किया जाता है और उन्हें कम आकार में भी बनाए रखते हैं ताकि वे इंटरनेट पर आसानी से साझा की जा सकें। यह एक बहुत ही प्रसिद्ध और सामान्य फाइल प्रारूप है जो छवियों के साथ ही अन्य चीजों को भी संग्रहित कर सकता है, जैसे कि नस्लीय छवियाँ, विविध रंगों की छवियाँ, तथा व्यावसायिक चित्र आदि।

जेपीजी फॉर्मेट छवियों को कम आकार में संग्रहित करता है जिससे वे अधिक अंतर्दृष्टि के रूप में सहजता से भागीदारों के बीच भेजी जा सकती हैं। इसके अलावा, इसकी संवेदनशीलता को भी बनाए रखा जाता है, ताकि फ़ाइलों को बदलना, संपादित करना, और साझा करना आसान हो। JPG फॉर्मेट इंटरनेट पर छवियों को साझा करने के लिए अत्यधिक प्रयोग किया जाता है, क्योंकि यह अधिकांश वेब ब्राउज़रों और अन्य सॉफ़्टवेयरों द्वारा समर्थित होता है।

JPG का उपयोग किस तरह के छवियों के लिए किया जाता है?

JPG फ़ाइल प्रारूप का उपयोग अक्सर छवियों और चित्रों के लिए किया जाता है। यह एक प्रमुख रूप से डिजिटल छवियों को संग्रहीत करने का प्रारूप है जो कम फ़ाइल आकार में छवियों को रखता है और उन्हें इंटरनेट पर साझा करने के लिए अधिक उपयुक्त बनाता है। JPG फ़ाइलें डिजिटल कैमरों और अन्य डिजिटल डिवाइसेज़ द्वारा तस्वीरें लेने के बाद उत्पन्न होती हैं। इन्हें कम्प्यूटर और इंटरनेट पर साझा करने के लिए उपयोग किया जाता है।

इनकी गुणवत्ता नुकसान के बिना कम होती है जो इन्हें अधिक व्यावसायिक बनाता है। JPG फ़ाइलें रंग, गहराई, और रेजोल्यूशन में बदलाव के बिना संग्रहीत की जा सकती हैं, लेकिन बड़ी बदलावों के साथ गुणवत्ता की हानि हो सकती है। यह एक पॉपुलर रूप से इंटरनेट पर तस्वीरें साझा करने के लिए उपयोग किया जाता है, जैसे कि सोशल मीडिया पोस्ट, वेबसाइटों पर चित्र, और ईमेल अनुलग्नक।

JPG छवियों को कम्प्रेस करने के लिए कौन-कौन से एल्गोरिथ्म का उपयोग किया जाता है?

JPG छवियों को कम्प्रेस करने के लिए कई एल्गोरिथ्म हैं जो विभिन्न प्रकार की तकनीकों का उपयोग करते हैं। सबसे प्रमुख तकनीक है JPEG (Joint Photographic Experts Group) अल्गोरिथ्म, जिसे इस प्रकार से जाना जाता है कि छवि को अल्गोरिथ्मिक रूप से कम्प्रेस किया जाता है और छवि की गुणवत्ता में विस्तार होता है, लेकिन छवि की गुणवत्ता में कुछ हानि होती है।

एक और चरणीय एल्गोरिथ्म है Discrete Cosine Transform (DCT), जिसमें छवि को ब्लॉकों में विभाजित किया जाता है और प्रत्येक ब्लॉक को फ़्रेक्वेंसी डोमेन में परिवर्तित किया जाता है।

फिर है Huffman Encoding, जो डेटा को इंटर्प्रिट करने के लिए उपयोग किया जाता है, और Quantization, जिसमें छवि के पिक्सल को संख्यात्मक मानों में परिवर्तित किया जाता है।

इन तकनीकों का संयोजन करके, हम छवियों का साइज़ कम कर सकते हैं और डिजिटल संचार में उन्हें अधिक दक्ष बना सकते हैं बिना अधिक गुणवत्ता का नुकसान किए।

जेपीजी की अन्य फ़ाइल एक्सटेंशन्स क्या हो सकती हैं?

JPG फ़ाइलें चित्रों को संग्रहित करने के लिए बहुत ही प्रसिद्ध हैं, लेकिन यह एक्सटेंशन केवल चित्रों के लिए होता है। अगर आप अन्य प्रकार की फ़ाइलों को संग्रहित करने की बात कर रहे हैं, तो कुछ अन्य एक्सटेंशन्स हो सकती हैं:

JPEG: JPEG एक्सटेंशन भी इस्तेमाल किया जा सकता है, जो कि जेपीजी के लिए एक अन्य रूप होता है।

JPE: यह भी JPEG की एक अन्य रूप है जो किसी चित्र को संग्रहित करने के लिए प्रयोग किया जा सकता है।

JPGM: जेपीजीएम फ़ाइलें जेपीजी एनकोडिंग का उपयोग करती हैं, लेकिन वे स्थिति मान लेती हैं जो एक चित्र की मैटाडेटा को संदर्भित करती है।

JFIF: यह भी JPEG फ़ाइलों के लिए एक एक्सटेंशन है जो चित्रों को संग्रहित करने के लिए प्रयोग किया जा सकता है।

JPG2: जेपीजी 2 एक्सटेंशन भी मौजूद है जो कि JPEG 2000 के लिए होता है, जो अधिक उच्च गुणवत्ता वाली छवियों के लिए उपयुक्त होता है।

इन अन्य एक्सटेंशन्स के अलावा, अन्य फ़ाइल एक्सटेंशन्स को भी चित्रों को संग्रहित करने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है, जैसे कि PNG, GIF, आदि।

JPG फ़ाइल्स को ओपन करने या संपादित करने के लिए कौन-कौन से सॉफ़्टवेयर्स उपलब्ध हैं?

JPG फ़ाइल्स को ओपन और संपादित करने के लिए कई सॉफ़्टवेयर उपलब्ध हैं। यहाँ कुछ प्रमुख विकल्प हैं:

Adobe Photoshop: यह एक प्रमुख ग्राफ़िक्स संपादन सॉफ़्टवेयर है जो अनेक फ़ाइल फ़ॉर्मेट का समर्थन करता है, जिसमें JPG भी शामिल है।

GIMP (GNU Image Manipulation Program): यह एक मुक्त और संगठित रूप से उपलब्ध ग्राफ़िक्स संपादन सॉफ़्टवेयर है जो JPG फ़ाइलों को ओपन और संपादित करने में सक्षम है।

Paint.NET: यह भी एक उपयोगी विकल्प है जो उपयोगकर्ताओं को अपनी JPG फ़ाइलों को संपादित करने की सुविधा प्रदान करता है।

Pixlr: यह एक ऑनलाइन फ़ोटो संपादन प्लेटफ़ॉर्म है जो उपयोगकर्ताओं को उनकी JPG फ़ाइलों को ब्राउज़ करने, संपादित करने और सहेजने की सुविधा प्रदान करता है।

इनमें से कुछ सॉफ़्टवेयर वित्तीय रूप से मुफ़्त हैं, जबकि अन्य विकल्प सब्सक्रिप्शन आधारित हो सकते हैं। उपयुक्त चयन आपकी आवश्यकताओं और बजट पर निर्भर करता है।

JPG को अन्य इमेज फ़ाइल फ़ॉर्मेट्स के साथ तुलना करते समय कौन-कौन से लाभ और हानियाँ होती हैं?

JPG फ़ाइल स्थानीय रूप से सबसे लोकप्रिय इमेज फ़ाइल प्रारूप है, लेकिन अन्य फ़ाइल फ़ार्मेट्स के साथ तुलना करते समय कुछ लाभ और हानियाँ होती हैं। PNG, GIF, और TIFF जेपीजी के मुकाबले अधिक गहरा रंग, ट्रांसपेरेंसी, और लॉसलेस रूप से इमेजेज को सहेजने की क्षमता प्रदान करते हैं। यह फ़ाइल फ़ार्मेट्स बेहतर ग्राफ़िक्स और वेब डिज़ाइन के लिए अधिक उपयुक्त हो सकते हैं।

हालांकि, JPG के मुकाबले ये फ़ाइल फ़ार्मेट्स अधिक फ़ाइल का आकार लेते हैं, जिसके कारण वे इंटरनेट पर साझा करने के लिए अधिक अनुकूल नहीं हो सकते। इसके अलावा, वे JPG की तुलना में अधिक अस्थायी हो सकते हैं और इमेजेज की गुणवत्ता को कम कर सकते हैं।

इसलिए, यदि गहरे रंग, ट्रांसपेरेंसी, या वेब पर छवियों को साझा करने की आवश्यकता है, तो PNG, GIF, और TIFF जेपीजी के प्रतिस्पर्धी विकल्प हो सकते हैं। हालांकि, यदि फ़ाइल का आकार महत्वपूर्ण नहीं है और फ़ाइल को इंटरनेट पर साझा करने की आवश्यकता है, तो JPG अधिक उपयुक्त हो सकता है।

JPG के कितने प्रकार होते हैं?

JPG फ़ाइलें एक प्रसिद्ध और सामान्य रूप से प्रयोग की जाने वाली इमेज फ़ाइलें हैं। जेपीजी (JPG) या जेपेग (JPEG) कोम्प्रेस्ड इमेज फ़ाइल फ़ॉर्मेट का एक प्राचलिक स्वरूप है जो चित्रों और फोटोग्राफ़ों को स्टोर और साझा करने के लिए बहुत ही प्रसिद्ध है। JPG फ़ाइलें कई प्रकार की होती हैं, जो निम्नलिखित हो सकती हैं:

जेपेग: यह सामान्य रूप से उपयोग में लाया जाने वाला JPG फ़ाइल संपीडित होता है। यह छवियों को कम आकार में रखने के लिए उपयोग किया जाता है, जिससे वे इंटरनेट पर साझा किए जा सकें।

उच्च गुणवत्ता जेपेग: यह JPG फ़ाइलें मुख्य रूप से प्रिंटिंग और पेशेवर इंटरनेट प्रदर्शन के लिए उपयोग की जाती हैं। इनमें अधिक संचित के बजाय अधिक गुणवत्ता का समर्थन किया जाता है।

बिना लॉस जेपेग: यह JPG फ़ाइलें कम्प्रेसिंग के दौरान डेटा का कोई नुकसान नहीं करती हैं, अर्थात् छवियों की गुणवत्ता को कम किया जाता है। यह छवियों को संचित करने के लिए व्यावसायिक उपयोग के लिए उपयुक्त होती हैं।

इन सभी प्रकार की JPG फ़ाइलें अलग-अलग उद्देश्यों के लिए उपयोग की जाती हैं और वे छवियों को संचित करने और साझा करने के विभिन्न तरीकों को समर्थन करती हैं।

JPG किस तरह की छवियों के लिए सबसे अधिक उपयुक्त है?

JPG फाइल प्रारूप छवियों के लिए एक प्रमुख और प्रसिद्ध प्रारूप है, जो व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है। यह छवियों को कम किलोबाइट में संग्रहित करने में सक्षम होता है, जिससे इसका उपयोग वेब पेजों, ईमेल, सोशल मीडिया, और अन्य आवश्यकताओं में हो सकता है। JPG छवियों की गुणवत्ता अधिकतम स्थिरता के साथ प्रदान करती है, जिससे यह अन्य फाइल प्रारूपों के मुकाबले अधिक अनुकूल होता है। इसका उपयोग कम रंगों और सादे छवियों के लिए अधिक उपयुक्त हो सकता है, जैसे कि लैंडस्केप और पोर्ट्रेट तस्वीरें।

इसके अलावा, JPG फाइलें अनेक प्रकार के संग्रहण और संवेदनशीलता के लिए समर्थ होती हैं, जो व्यावसायिक तथा व्यक्तिगत उपयोग के लिए अधिक सुविधाजनक बनाता है।

सम्पूर्ण रूप से, JPG छवियों का प्रारूप उपयोगकर्ताओं को सुविधा और गुणवत्ता की अच्छी योजना प्रदान करता है, जिससे यह विभिन्न उद्देश्यों के लिए सबसे अधिक उपयुक्त होता है।

JPG का निर्माण किस तरह होता है?

JPG या जेपेग एक प्रसिद्ध रूप से उपयोग किया जाने वाला फ़ाइल प्रारूप है जो चित्रों को कम आकार में संग्रहित करने के लिए उपयोग किया जाता है। JPG का निर्माण वास्तव में एक ऐल्गोरिदम द्वारा होता है जिसे रस्त्र चित्र संग्रहित किया जाता है। जब आप एक छवि को JPG फ़ाइल में सहेजते हैं, तो सॉफ़्टवेयर छवि के विभिन्न भागों को संपीड़ित करके इसे आकार में कम करता है।

यह संपीड़ित डेटा को हटा देता है जो अदृश्य होता है और छवि के अंदर छिपी नकली जानकारी को कम करने में मदद करता है। इस प्रक्रिया के बाद, छवि एक JPG फ़ाइल में संग्रहित होती है जो कम आकार में होती है और इसलिए इंटरनेट पर साझा करने और स्टोर करने के लिए अधिक उपयुक्त होती है।

जेपीजी फ़ाइल्स के लिए कौन-कौन से क्वालिटी सेटिंग्स होते हैं?

JPG फ़ाइल्स को बनाते समय, आपको कई क्वालिटी सेटिंग्स को समझना महत्वपूर्ण होता है। पहले, आपको सोचना होगा कि आपको इमेज को कितने क्वालिटी में सहेजना है। यह निर्भर करता है कि आपको कितना डेटा खोखला करने की अनुमति है और आपकी फ़ाइल कितनी संकेतों के साथ संग्रहित होनी चाहिए।

एक अच्छी क्वालिटी सेटिंग्स की मिसाल हो सकती है 80% क्वालिटी, जो उच्च स्तर की गुणवत्ता प्रदान करता है लेकिन फ़ाइल का आकार भी कम करता है। दूसरी चीज़ है रेजल्यूशन, जो आपकी फ़ाइल की चोटी को संज्ञान में लेती है। अधिक रेजल्यूशन वाली फ़ाइलें अधिक विस्तृत और अधिक संकेतों के साथ होती हैं, जबकि कम रेजल्यूशन वाली फ़ाइलें छोटी होती हैं लेकिन अधिक भ्रांति होती है। आपके फ़ोटो की उपयोगिता के आधार पर, आप इन पैरामीटर्स को समायोजित कर सकते हैं ताकि आपकी फ़ाइलें उचित गुणवत्ता और आकार में हों।

JPG में डेटा कैसे संग्रहित होता है?

JPG एक प्रसिद्ध इमेज फ़ाइल फ़ॉर्मेट है जिसमें इमेज डेटा संग्रहित किया जाता है। यह फ़ाइल फ़ॉर्मेट एक बाइनरी फ़ाइल फ़ॉर्मेट है, जिसमें इमेज के पिक्सलों की जानकारी संग्रहित होती है। प्रत्येक पिक्सल को रंग और उसकी स्थिति के रूप में कोड किया जाता है। JPG फ़ाइल में इमेज के साथ संग्रहित जानकारी को मेटा-डेटा कहा जाता है, जो इमेज के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान करता है, जैसे कि इमेज का तारीख, निर्माता, कैमरा सेटिंग्स, आदि।

जेपीजी फ़ाइलें कम्प्रेस की जाती हैं, जिससे इमेज का आकार कम होता है, लेकिन इमेज की गुणवत्ता कम नहीं होती। यह कम्प्रेशन फ़ाइल का आकार कम करने के लिए अलग-अलग तरीकों का उपयोग करता है, जिसमें डेटा के गुणत्व को कम किया जाता है, लेकिन बिना इमेज की गुणवत्ता को प्रभावित किए।

इस प्रकार, JPG फ़ाइलें एक समृद्ध तरीके से इमेज डेटा को संग्रहित करती हैं, जिसे बिना गुणवत्ता को कम किए जाते हुए कम्प्रेस किया जा सकता है।

JPG छवियों को अन्य इमेज फ़ाइल फ़ॉर्मेट्स में कन्वर्ट करने के लिए कौन-कौन से उपकरण होते हैं?

जेपीजी (JPG) छवियों को अन्य इमेज फ़ाइल फ़ॉर्मेट्स में कन्वर्ट करने के लिए कई उपकरण उपलब्ध हैं। यहाँ कुछ मुख्य उपकरणों की सूची है:

फोटोशॉप: यह एक प्रमुख ग्राफिक्स संपादन सॉफ्टवेयर है जिसका उपयोग जेपीजी छवियों को अन्य फ़ाइल फ़ॉर्मेट्स में कन्वर्ट करने के लिए किया जा सकता है।

गिम्प: यह एक मुक्त और खुला स्रोत ग्राफिक्स संपादन सॉफ़्टवेयर है जिसका उपयोग जेपीजी छवियों को विभिन्न फ़ाइल फ़ॉर्मेट्स में बदलने के लिए किया जा सकता है।

ऑनलाइन कन्वर्टर: कई वेबसाइट्स ऑनलाइन इमेज कन्वर्टर सेवाएँ प्रदान करती हैं जो जेपीजी फ़ाइलें अन्य फ़ाइल फ़ॉर्मेट्स में बदल सकती हैं।

फोटो व्यूअर: कई फोटो व्यूअर सॉफ़्टवेयर भी जेपीजी छवियों को अन्य फ़ाइल फ़ॉर्मेट्स में सहेजने की सुविधा प्रदान करते हैं।

इन उपकरणों का उपयोग करके आप जेपीजी छवियों को विभिन्न इमेज फ़ाइल फ़ॉर्मेट्स में आसानी से कन्वर्ट कर सकते हैं।

जेपीजी के उत्पादन में उपयोग किए जाने वाले किस तरह के एल्गोरिथ्म होते हैं?

JPG फ़ाइलें छवियों को संग्रहित करने के लिए एक प्रसिद्ध फ़ॉर्मेट हैं, जो गहराई में रंगों को संदर्भित करता है। जेपीजी फ़ाइल को उत्पन्न करने के लिए, कई तरह के एल्गोरिदम का उपयोग किया जाता है।

पहला एल्गोरिदम, Discrete Cosine Transform (DCT), छवि को विभिन्न धर्मिक उच्चता वाले फ्रेक्वेंसी बैंड में विभाजित करता है। यह उच्च और निम्न फ्रेक्वेंसी को छवि में संदर्भित करता है, जिससे डेटा को कम किया जा सकता है।

दूसरा महत्वपूर्ण एल्गोरिदम, Huffman Encoding, डेटा को संपीड़ित करने के लिए उपयोग किया जाता है। यह डेटा को बिना जाने के कोड तालिका का उपयोग करके संपीड़ित करता है, जिससे अधिक अद्यतित डेटा कम संदर्भित बिटों में संग्रहित किया जा सकता है।

इन एल्गोरिदमों का संयुक्त उपयोग, छवि को संदर्भित रूप से संपीड़ित करता है और फ़ाइल का आकार कम करता है, जिससे वेब पर साझा करने और भेजने में सुगमता होती है।

JPG फ़ाइल्स का डिज़ाइन किस तरह काम करता है?

JPG फ़ाइल्स का डिज़ाइन एक विशेष प्रकार का डिजिटल छवि फॉर्मेट है जिसका उपयोग विभिन्न उद्देश्यों के लिए किया जाता है। यह एक कंप्रेस किया हुआ फॉर्मेट होता है, जिसका मतलब है कि इसमें छवि की जानकारी को कम कर दिया जाता है ताकि फ़ाइल का आकार कम हो और उसे इंटरनेट पर साझा करना आसान हो जाए। JPG फ़ाइल्स में छवि की गुणवत्ता कम होती है, जिससे फ़ाइल का आकार कम हो जाता है, लेकिन इसके साथ ही छवि की गुणवत्ता में भी कुछ हानि हो सकती है। इसमें छवि की रेजोल्यूशन कम होती है और छवि की डिटेल्स में हानि हो सकती है।

इसके अलावा, JPG फ़ाइल्स में रंगों की संख्या भी कम होती है, जिससे छवियों की रंगत और विविधता में कुछ हानि हो सकती है।

यह फॉर्मेट फोटोग्राफी, वेब डिज़ाइन, और सोशल मीडिया पोस्टिंग के लिए बहुत लोकप्रिय है क्योंकि इसके आकार कम होते हैं और इंटरनेट पर आसानी से साझा किए जा सकते हैं।

जेपीजी के उपयोग के क्षेत्र क्या-क्या हैं?

JPG या Joint Photographic Experts Group फ़ाइल प्रारूप एक प्रमुख छवि फ़ाइल प्रारूप है जो व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है। यह फ़ाइल प्रारूप छवियों को संग्रहीत करने के लिए सबसे आम रूप है जो ऑनलाइन और ऑफ़लाइन संदर्भों में प्रयुक्त किया जाता है।

JPG छवियों के कई उपयोग हो सकते हैं, जैसे कि:

डिजिटल फोटोग्राफी: जीपीजी फ़ाइलें डिजिटल कैमरों द्वारा ली गई छवियों को संग्रहित करने के लिए प्रयुक्त होती हैं।

वेब पेज: वेब पेजों पर छवियों को प्रदर्शित करने के लिए जीपीजी फ़ाइलें उपयोग की जाती हैं क्योंकि वे छोटे आकार में होती हैं और जल्दी लोड होती हैं।

स्लाइड शो और प्रेजेंटेशन: प्रोजेक्टर के माध्यम से छवियों को प्रदर्शित करने के लिए भी जीपीजी फ़ाइलें उपयोग में लाई जाती हैं।

छपाई: ग्राफ़िक्स डिज़ाइन में छवियों को छपाने के लिए भी जीपीजी फ़ाइलें उपयोग की जाती हैं।

इन सभी क्षेत्रों में, JPG छवियों का उपयोग सुविधाजनक, लोकप्रिय, और संचार को सुगम बनाने में मदद करता है।

JPG फ़ाइल्स को स्टोर करने के लिए किस तरह की टेक्नोलॉजी का उपयोग किया जाता है?

JPG फ़ाइल्स को स्टोर करने के लिए एक आम तकनीकी उपाय है कंप्रेशन तकनीक। जेपीजी या जेपेग (Joint Photographic Experts Group) ने इस तकनीक को विकसित किया था। इसका मुख्य लक्ष्य छवियों को कम स्थान पर संग्रहित करना होता है बिना अधिक गुणवत्ता को कम किए बिना।

जेपेग फ़ाइल्स को संदर्भित चित्र की गुणवत्ता को कम करते हुए डेटा को घटाने के लिए ‘लॉसी कम्प्रेशन’ तकनीक का उपयोग करता है। यह तकनीक डेटा को ऐसे ढंग से कम करती है कि छवि की गुणवत्ता का बहुत कम असर पड़ता है, लेकिन फ़ाइल का आकार काफ़ी कम होता है। यह एक प्रकार की ‘लॉसी’ कम्प्रेशन होती है, जिसमें कुछ डेटा नष्ट हो जाता है, लेकिन आमतौर पर यह नष्टिकरण अनदेखा किया जाता है।

जेपेग फ़ाइल्स की इस तकनीक की वजह से वे इंटरनेट पर साझा करने के लिए अधिक उपयुक्त होते हैं, क्योंकि यह फ़ाइल का आकार कम करता है जिससे अधिक जानकारी को कम स्थान पर संग्रहित किया जा सकता है।

हमे उम्मीद है की आपको यहाँ दी गई जानकारी अच्छी लगी होगी। यह जानकारी आप अपने दोस्तों को जरूर share करे। धन्यवाद

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top